Tuesday, October 22, 2013

मुन्तज़िर फिरोज़ाबादी साहब की गजलें

(1)
नज़्म लिखूं या प्यार करूं
या फिर कोई व्यापार करूं

तू ही बता ए कर्जे-जिंदगी
मौत से कितना उधार करूं

अपने गम सब छुपे-छुपाए
गम को क्यूँ इश्तिहार करूं

कोई कहता जाने दूँ अब
तो कोई कहे इंतज़ार करूं

सबने अपनी कह ली हो
तो मैं भी ज़िक्रे-यार करूं

जुगनूँ को आफताब बनाया
अब कितना जिम्मेदार करूं

तू खुद को आँगन कर ले  
मैं खुद को दीवार करूं

तारे अब तक जाग रहे है
आ चाँद तुझे होशियार करूं

इतनी लंबी रात ‘मुन्तज़िर’
मैं कैसे तुझपे ऐतबार करूं

(2)
न कोई हकीकत तेरे सिवा अच्छा ये भी है
न किसी भी काम में मज़ा अच्छा ये भी है

बलखा के यूँ चलना मेरा शजर सा गिरना
मस्ते नाज हुस्न की अदा अच्छा ये भी है

तेरी बातें तेरी आहें मेरा यूँ जिंदा ही मरना
तेरी हस्ती का एक मुद्दा अच्छा ये भी है 

रूठे रूठे थे कल पर कल तो खूब बात की
मतलब मुझसे नहीं गिला अच्छा ये भी है

मेरा हर कीमती सामान आज तुम पे कैसे
कल नशे में दिया था क्या अच्छा ये भी है

तेरे दिल के दर पर कोई खटखट नहीं होती
अब नहीं सुनाई देती सदा अच्छा ये भी है

रहमतों पे जी लिए अब तुम्हें मरना होगा
कुछ नहीं है मर्ज़ की दवा अच्छा ये भी है

कई लोगों को कहते ये सुना था कल मैंने
‘मुन्तज़िर’ इतना नहीं बुरा अच्छा ये भी है


(3)
तुझमें शामिल हैं आग लगाने वाले
मुझमें शामिल हैं आग बुझाने वाले

सबको अपने काम से काम है यारों
सच में इतने अच्छे हैं ज़माने वाले

तुझको जाना है तो संभल के जाना
कोई भी शिकवा नहीं है जाने वाले

कई लोग करते हैं अहदे-वफ़ा जानां
कई लोग आते हैं दिल दुखाने वाले

इनके दामन में दुनिया के अश्क हैं
बस ये लोग लगते हैं खजाने वाले

पिछली सिम्त में बैठ जाते हैं यारों
कुछ सुनते क्यूँ नहीं ये सुनाने वाले

तुझे कोई नहीं समझता ‘मुन्तज़िर’
तेरे सब दोस्त कहाँ है पुराने वाले

अहदे-वफ़ा = प्रेम का प्रण
सिम्त = पंक्ति
  

1 comment:

Manu Tyagi said...

प्रिय ब्लागर
आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

welcome to Hindi blog reader

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Copyright © 2012;

इस वेबसाइट पर लिखित समस्त सामग्री अनन्त भारद्वाज द्वारा कॉपीराइट है| बिना लिखित अनुमति के किसी भी लेख का पूर्ण या आंशिक रूप से प्रयोग वर्जित है|